पानी में उगने वाला यह फल है या सब्जी, जाने सेहत से जुड़े इसके लाभ

सिंघाड़ा एक लाल और हरे रंग का फल है जो कि पानी में उगता है, यह सर्दियों के मौसम में आसानी से उपलब्ध हो जाता है

सिंघाड़े को कच्चा छीलकर, उबालकर या फिर सिंघाड़े के आटे को खाने के रूप में सेवन किया जाता है

यह बहुत ही गुणकारी व पानी से भरपूर फल होता है इसमें कई पोषक तत्व पाए जाते हैं, जो कि स्वास्थ्य के लिए लाभकारी हैं

इसमें फाइबर और रफेज की भी अच्छी मात्रा होती है जो कि वेट लॉस और मेटाबोलिज्म तेज करने में मददगार है।

सिंघाड़े में विटामिन-ए, सी, मैंगनीज, थायमाइन, कर्बोहाईड्रेट, टैनिन, सिट्रिक एसिड, रीबोफ्लेविन, एमिलोज, फास्फोराइलेज, बीटा-एमिलेज, प्रोटीन, फैट और निकोटेनिक एसिड जैसे तत्व भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं

हायपरटेंशन व हाई ब्लड प्रेशर की समस्या में सिंघाड़ा का सेवन बेहद फायदेमंद है, शरीर में दर्द व सूजन को भी कम करता है

इसमें पोषक तत्त्वों की भरपूर मात्रा होने के कारण व्रत में इसका सेवन करने से दिन भर ऊर्जावान महसूस करते हैं

गर्भावस्था में सिंघाड़े का सेवन करना माता और शि‍शु दोनों के लिए बहुत फायदेमंद होता है। इसके सेवन से गर्भपात का खतरा भी कम होता है। सिंघाड़ा खाने से पीरियड्स की समस्याएं भी ठीक होती हैं.

सिघाड़े में आयोडिन और मैंगनीज पर्याप्त मात्रा में पाए जाते हैं। ये थायराइड की समस्या में लाभदायक हैं। इसमें मौजूद आयोडीन गले संबंधी रोगों से बचाता है

इसका नियमित सेवन करने से हड्डियां और दांत मजबूत रहते है। साथ ही यह आंखों के लिए भी फायदेमंद है

सिंघाड़ा यूरिन इंफेक्शन की समस्या में फायदेमंद हो सकता है। सिंघाड़ा में मौजूद एंजाइम मूत्राशय को साफ करके बैक्टीरिया को दूर करता है। यह मूत्र पथ के संक्रमण और मूत्र प्रणाली से संबंधित अन्य बीमारियों को ठीक करने में उपयोगी है